निदेशक का संदेश

प्रिय छात्र एवं अभिभावकगण

निदेशक की कलम से .......
यह महाविद्यालय झाँसी जिले का उत्कृष्ट प्रकार का संस्थान हैं गत वर्षो में महाविद्यालय का परीक्षा परिणाम उत्कृष्ठ रहा है जिसमें क्षेत्र के अभिभावकों एवं हजारों छात्रो के भविष्य के दृष्टिकोण से ठीक है तमाम अभिभावकों ने इसकी प्रशंसा भी कि है यहां पर अच्छे शिक्षक एवं सभी प्रकार की सुविधाएं जैसे - लाइब्रेरी कम्प्यूटर रूम पर्यावरणीय वातावरण हवादार कमरे विशेष प्रकार के सुसज्जित हैं हमारा प्रयास हैं कि यहां के विद्यार्थी जहां भी जाये महाविद्यालय का नाम रोशन करे कुशल एवं अनुभवी अघ्यापको का अध्यापन कार्य विशेष तौर से छात्र छात्राओं को प्रभावित करता हैं छात्रों की हर प्रकार की समस्याओं का निदान एक छत के नीचे हो सकें लेकिन मेरा प्रयास हैं कि महाविद्यालय का प्रत्येक छात्र अपनी उत्कृष्ठ मंजिल प्राप्त कर विद्यालय क्षेत्र एवं जिले का नाम रोशन कर हमें गौरवान्वित करे।
झाँसी जनपद के शिक्षा क्षेत्र में प्रवेश अपना एक विशिष्ठ स्थान रखता है वर्तमान समय मे उच्च शिक्षा में बढ़ती मांग को अनुरूप माँ शारदा महाविद्यालय की स्थापना वर्ष 2016 में की गयी थी ये महाविद्यालय उत्तरोत्तर नये उच्च मापदण्ड स्थापित करते हुए B.Sc. एवं B.Com. मे सर्वश्रेष्ठ परीक्षाफल दिये है ।
B.Sc. एवं B.Com. के साथ B.El.Ed. / BTC की कक्षाओ का संचालन किया जा रहा है । संस्थान का उद्देश्य उच्च कोटि की शिक्षा को गुणवत्ता कायम करना है । ताकि आज का युवा भविष्य में राष्ट निर्माण में अपना यथा शक्ति पूरा योगदान दे सके विद्यार्थियों के सर्वागीण विकास हेतु कॉलेज प्रबंधक ने बेहतर लाइब्रेरी प्रयोगशाला क्रीड़ास्थल एवं आधुनिक सुविधाओं से युक्त अन्य शैक्षिक गतिविधिया संचालित की जा रही है । संस्थान के विकास में हमारी बेहतरीन फैकल्टी का विशेष योगदान है ।
विद्यार्थियों के शैक्षिक उन्न्यन के साथ उनके चरित्र निर्माण पर विशेष ध्यान दिया जाता है।
संस्थान का हर सम्भव प्रयास है । कि आज युवा पीढ़ी ऐसा बेहतर नागरिक बन राष्ट निर्माण में विभिन्न स्वरूपो में कार्यकर अपना योगदान दे।
अंत मे मैं छात्रो की सुखद एवं समृद्धि भविष्य की कामना सह हृदय से करती हूं कि यहाँ का निकृत्य प्रकाश दूर तक बिखरे। माँ शारदा महाविद्यालय आपको शैक्षिक वातावरण एवं व्यवस्था का आश्वासन देता है | परिवार के प्रत्येक सदस्य परस्पर स्नेह, सौहार्द और आदर का भाव रखते है | आप एक ऐसी संस्था से जुड़े रहे है, जिसके, समरसता एवं एकरूपता को स्थापित करने की अपनी परम्परा को सुव्यवस्थित रखने हुए इसे आप उत्तरोतर विकास के पथ पर अग्रसर करेगें | हमारा सतत एवं भागीरथ प्रयास है कि हम इस संस्था के अपने सुव्यवस्थित मूल्यों के अनुकूल आप को अपने लक्ष्य तक पहुंचा सके एवं संस्कारयुक्त व्यक्ति बना सके |
आप का मनोबल एवं नैतिक स्तर पर्वत से भी ऊँचा, समुद्र से भी गहरा और आकाश से भी विशाल होगा चाहिए | जिससे कोई भी शक्ति आपकी प्रगति को अवरुद्ध न कर सके |
मेरी शुभकामनाएँ आप के साथ है |

धन्यवाद 
श्री विकास अग्रवाल
निदेशक
माँ शारदा महाविद्यालय
घुराट, झाँसी